Sports

Ind vs Eng: Kohli becomes second most successful Test captain at home, equals Dhoni | Ind vs Eng: घर में दूसरे सबसे सफल टेस्ट कप्तान बने कोहली, धोनी की बराबरी की



डिजिटल डेस्क, चेन्नई। विराट कोहली ने भारत में बतौर कप्तान सर्वाधिक टेस्ट मैच जीतने के मामले में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। कोहली की कप्तानी में भारत ने यहां एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड को मंगलवार को 317 रनों से करारी शिकस्त दी।

धोनी को 30 और विराट को 28 मैच में मिली 21 जीत
कोहली ने हालांकि धोनी से कम मैचों में देश में कप्तानी करते हुए उनके बराबर जीत हासिल की है। कोहली ने जहां देश में 28 मैचों में कप्तानी की है, वहीं धोनी 30 मैचों में कप्तान रहे हैं। दोनों ने हालांकि 21-21 मैचों में टीम को जीत दिलाई है। विराट की कप्तानी में घरेलू मैदानों पर टीम इंडिया को दो टेस्ट मैचों में हार का सामना करना पड़ा और 5 टेस्ट ड्रॉ रहे। वहीं धोनी की कप्तानी में 3 हार मिली और 6 टेस्ट ड्रॉ रहे।

कोहली के पास अब इंग्लैंड के साथ अगले दो टेस्ट मैचों को जीतकर धोनी से आगे निकलने का मौका होगा। उनके अलावा पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने भारत में 20 टेस्ट मैचों में से 13 जीते हैं, चार हारे हैं और तीन ड्रॉ रहा है। सौरव गांगुली ने बतौर कप्तान 21 टेस्ट मैच भारत में खेले हैं, जिसमें में 10 जीते हैं और तीन हारे हैं जबकि आठ ड्रॉ रहा है। वहीं, सुनील गावस्कर ने घर में 29 टेस्ट मैचों में सात जीते हैं, दो हारे हैं और 20 मैच ड्रॉ खेले हैं।

अगला टेस्ट जीते तो कर लेंगे स्टीव वॉ की बराबरी
अगर भारतीय टीम अहमदाबाद में होने वाला तीसरा टेस्ट मैच भी जीत लेती है तो विराट का घरेलू मैदानों पर रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्टीव वॉ की बराबरी पर आ जाएगा। तब भारतीय मैदानों पर विराट के नाम 29 टेस्ट में 22 जीत हो जाएगी। दूसरी ओर स्टीव वॉ ने भी अपने घरेलू मैदानों (ऑस्ट्रेलिया में) में भी 29 में से 22 मैचों में जीत हासिल की थी।

विदेश में तोड़ चुके हैं गांगुली का रिकॉर्ड
विराट पहले ही टेस्ट क्रिकेट में विदेशी जमीन पर भारत के सबसे सफल कप्तान बन चुके हैं। विदेश में उनकी कप्तानी में भारत ने 30 मैचों में से 13 में जीत हासिल की है। 12 में हार झेलनी पड़ी और पांच मैच ड्रॉ रहे। उनसे पहले यह रिकॉर्ड सौरव गांगुली के नाम था। गांगुली ने विदेश में 28 मैचों में 11 में जीत हासिल की थी। 10 में हार झेलनी पड़ी थी और 7 ड्रॉ रहे थे।



Source link